प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना !

0
319
PM-Krishi-Sinchai-Yojana

PM कृषि सिंचाई योजना

भारत एक कृषि प्रधान देश है। हमारे देश की अर्थव्यवस्था का बड़ा भाग कृषि पर निर्भर करता है। देश में 30% से अधिक रोज़गार इसी क्षेत्र से आते हैं। जिस कारण कृषि के क्षेत्र का विकास जरूरी है।

Agriculture depends on rainfall on the rest of the land. Due to the uncertainty of irrigation systems, the conditions of farmers in the country are very bad. The central government started the Pradhan Mantri Krishi Sinchai Yojana in 2015 to improve the irrigation system.

बाकी की भूमि पर कृषि वर्षा पर निर्भर करती हैं।सिंचाई की व्यवस्थाओं की अनिश्चितता के कारण देश में किसानों के हालात बहुत ही ख़राब हैं।केंद्र सरकार ने सिंचाई की व्यवस्था को सुधारने के लिए “प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना” की शुरुआत 2015 में की थी।

इस योजना के अंतर्गत सिंचाई की व्यवस्था को सुधारने के लिए पूरे देश में 55 हज़ार करोड़ रुपए खर्चे जाएंगे। केंद्र सरकार ने मानसून ऋतु पर कृषि की निर्भरता को कम करने और प्रत्येक खेत तक पानी पहुंचाने के लिए प्रधानमंत्री सिंचाई योजना को लागू किया है।

इस योजना का उद्देश्य “हर खेत तक पानी” है। इस योजना के तहत किसानों को सिंचाई करने हेतु सिंचाई उपकरण, फव्वारे, कृषि बीमा, कृषि प्रशिक्षण जैसी  सुविधाएँ प्रदान की जाएगी।

नीति आयोग की रिपोर्ट 2020 के अनुसार इस योजना से अब तक 8 लाख से ज्यादा किसान लाभान्वित हो चुके हैं। इस योजना को लागू करने के पश्चात देश के अब तक 13% सूखाग्रस्त क्षेत्र में खेती की जा चुकी है। जिससे किसानों को फायदा होने के साथ देश की अर्थव्यवस्था को भी फायदा हो रहा है।

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना से क्या लाभ होगा किसानों को?

1.किसानों को बाग़वानी और सब्जियों की खेती करने के लिए प्रेरित किया जाएगा। उन्हें बाग़वानी और सब्जी की खेती करने के लिए ड्रिप विधि की तकनीक को खरीदने के लिए सरकार 50 से 80 फ़ीसदी तक की प्रोत्साहन राशि प्रदान करेगी।

  1. सरकार फव्वारा सिंचाई की खरीदी पर 50% तक की प्रोत्साहन राशि प्रदान करेगी।

3.सरकार सीमांत किसानों, महिला किसानों, अनुसूचित जाति, जनजाति के किसानों को कृषि से संबंधित 5 दिन का निशुल्क प्रशिक्षण प्रदान करेगी।

4.इस योजना के अंतर्गत सरकार किसानों को अपने क्षेत्र में सामुदायिक तालाब बनाने के लिए 30 लाख़ रुपए का अनुदान उपलब्ध करवाएगी।

  1. सरकार किसानों को सरकारी सूखाग्रस्त भूमि पर खेती करने हेतु ऋण प्रदान करेगी।

6.सरकार इस योजना के तहत किसानों को सिंचाई करने हेतु सूक्ष्म सिंचाई तकनीक का निशुल्क प्रशिक्षण प्रदान करेगी।

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना की विशेषताएँ क्या है?

  1. इस योजना के तहत देश में जलाशय को भरना, पुरानी टंकियां की मरम्मत, वर्षा के जल का संचयन आदि कार्यों को किया जाएगा।
  2. सरकार जिला, उपजिला, तहसील स्तर पर सिंचाई व्यवस्था का जायजा लेकर किसानों की सुविधा अनुसार सिंचाई पद्धति का निर्माण करेगी।
  3. इस योजना में केंद्र सरकार कुल ख़र्च का 75% हिस्सा देगी जबकि राज्य सरकारों को मात्र 25% ख़र्च देना होगा।
  4. पहाड़ी क्षेत्रों में सरकार इस योजना का 90% खर्च उठाएगी जबकि 10% खर्च राज्य सरकार को उठाना होगा।

5.इस योजना के तहत जिन क्षेत्रों में पानी की कमी है। वहां नहर के जरिए, भूजल स्रोतों के माध्यम से सिंचाई की सुविधा की जाएगी।

6. इस योजना को लागू करने से 45% तक जल की बचत होगी जबकि किसानों की लागत में 25% तक की कमी होगी।

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना में पात्रता मापदंड क्या है?

  1. इस योजना का पात्र बनने के लिए किसानों के पास सिंचाई हेतु योग्य भूमि होनी चाहिए।
  2. कोई भी सरकारी कर्मचारी या सरकारी पेंशन प्राप्त करता इस योजना के तहत प्रोत्साहन राशि प्राप्त नहीं कर पाएगा। उन्हें सिंचाई इतनी हेतु पूरा पैसा देना होगा।
  3. देश के सभी वर्ग के किसान इस योजना के पात्र होंगे।

4.इस योजना के अंतर्गत सहकारी समिति, उत्पादक, किसानों के समूह, सेल्फ हेल्प ग्रुप्स, ट्रस्ट आदि संस्थानों के सदस्यों भी इस योजना के पात्र होंगे।

  1. किराए पर ली गई भूमि पर खेती करने वाले किसान इस योजना के पात्र नहीं होंगे।

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना में किन दस्तावेज़ों की आवश्यकता होगी?

इस योजना में आवेदन करने के लिए किसानों को अपने निम्न दस्तावेज़ों की जरूरत होगी!

  1. आधार कार्ड
  2. पहचान पत्र
  3. किसान कार्ड
  4. खेत के खतौनी नंबर.
  5. खेत की ज़मीन के दस्तावेज़
  6. आय का प्रमाण पत्र.
  7. चार पासपोर्ट साइज फोटो.
  8. बैंक डायरी की फोटो कॉपी.

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना में आवेदन करने की प्रक्रिया:

इस योजना में आवेदन करने के लिए आपको  भारत सरकार की आधिकारिक कृषि विभाग के पोर्टल पर पंजीकरण करवाना होगा।

 

  1. अपना पंजीकरण करवाने के लिए आपको कृषि विभाग के पोर्टल http://pmksy.gov.in/ पर जाना होगा।
  2. इस लिंक पर जाने के बाद आपके सामने किसान पंजीकरण लिखा हुआ होगा। उस पर क्लिक करना है।

3.इसके बाद एक अन्य वेब पेज खुलेगा। जिसमें किसान पंजीकरण का फॉर्म उपलब्ध होगा।

4.आपको इस फॉर्म में मांगी जाने वाली सभी जानकारी को सावधानीपूर्वक भरकर सबमिट करना है।

इसके बाद आपका भारतीय कृषि विभाग पर पंजीकरण हो जाएगा।

जब आप कृषि से संबंधित तकनीक या प्रशिक्षण प्राप्त करना चाहते हैं। तब आपको अपने राज्य की  आधिकारिक कृषि वेबसाइट पर जाकर आवेदन करना होगा। इसमें आपको भारतीय कृषि विभाग द्वारा मिली पंजीकरण संख्या की आवश्यकता होगी। बिना भारतीय कृषि विभाग में पंजीकरण किए आप प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना का लाभ प्राप्त नहीं कर सकते हैं।

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए आप कृषि विभाग के निशुल्क हेल्पलाइन नंबर 1800-180-1551 पर कॉल कर सकते हैं।

 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here